सीबीआइ का दावा राजीव कुमार के खिलाफ मिला है ठोस सुबूत

सीबीआइ ने दावा किया है कि उसे वरिष्ठ आइपीएस अफसर व कोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के खिलाफ ठोस सुबूत हाथ लगा है। उसने राजीव कुमार और सारधा समूह के एक कर्मचारी के बीच पांच कॉल का पता लगाया है। यह कर्मचारी चिटफंड घोटाले के मास्टरमाइंड सुदीप्त सेन को सीधे सूचना देता था। बताया गया है कि कुमार की गिरफ्तारी पर लगी रोक सुप्रीम कोर्ट ने उक्त सुबूत मिलने के बाद हटा दी थी।सीबीआइ के एक शीर्ष अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि एजेंसी के जांचकर्ता यह सिद्ध करने से अब कुछ ही दूर हैं कि पूर्व पुलिस कमिश्नर मामले में सुबूतों के साथ छेड़छाड़ करने में लिप्त थे। उक्त कॉल्स तब की हैं, जब राजीव कुमार बिधाननगर के पुलिस आयुक्त थे और साल 2013 में कई करोड़ का पोंजी घोटाला सामने आया था। हालांकि, सीबीआइ अधिकारी ने यह नहीं बताया कि राजीव कुमार के विशेष जांच दल के प्रमुख बनने के बाद की कॉल्स हैं या पहले की।सीबीआइ अधिकारी ने बताया कि शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि राजीव कुमार की गिरफ्तारी से सुरक्षा सात दिनों में यानी 24 मई को समाप्त हो जाएगी। उन्होंने बताया कि एजेंसी ने इस बात पर पहले ही विचार करना शुरू कर दिया है कि राजीव को कब गिरफ्तार किया जाए, क्योंकि हिरासत में पूछताछ कई राज खोलेगी।अधिकारी के मुताबिक राजीव की गिरफ्तारी का समय अब नजदीक है। एक अन्य सीबीआइ अधिकारी ने बताया कि एजेंसी के पास मौजूद सुबूत न केवल राजीव कुमार को गिरफ्तार करने के लिए काफी हैं बल्कि उन्हें दोषी ठहराने के लिए भी पर्याप्त हैं।गौरतलब है कि यह घोटाला और राजीव कुमार की कथित भागीदारी का मामला एक प्रमुख राजनीतिक मुद्दा बना है। भाजपा कह रही है कि तृणमूल कांग्रेस के कई नेता इसमें मिले हुए है, वहीं तृणमूल कांग्रेस का कहना है कि भाजपा अपने राजनीतिक फायदे के लिए सीबीआइ का इस्तेमाल कर रही है। कभी तृलमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी के खास रहे मुकुल रॉय की इस मामले में संलिप्तता की बात उठी थी, लेकिन उन्होंने पार्टी का दामन छोड़ भाजपा की सदस्यता ले ली।

About the author

editor

Add Comment

Click here to post a comment

Today E-paper